फेक न्यूज़ पत्रकारिता के मौजूदा दौर की सबसे बड़ी चुनौती : प्रो. सुथार

उदयपुर। मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में बुधवार को राष्ट्रीय प्रेस दिवस समारोह पूर्वक मनाया गया।

national press day के इस अवसर पर मुख्य अतिथि सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रोफ़ेसर सीआर सुथार ने कहा कि पत्रकारिता में विश्वसनीयता सबसे जरूरी होती है और भावी पत्रकारों को भी इस दिशा में सदैव सजग और संजीदा रहना चाहिए उन्होंने कहा कि डिजिटल मीडिया के दौर में सूचनाओं का प्रवाह बढ़ गया है ऐसे में सही समाचार एवं गलत समाचार के बीच में अंतर महसूस करना भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि फेक न्यूज़ हम सबके लिए चुनौती है और इसकी रोकथाम के लिए हम सबको पूरी सजगता से अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए।
विशिष्ट अतिथि डॉ आशीष सिसोदिया ने कहा कि स्वतंत्र पत्रकारिता लोकतंत्र की पहली आवश्यकता होती है क्योंकि यह एक वॉच डॉग की भूमिका भी निभाता है। ऐसे में किसी विचारधारा विशेष की छवि या छाप खुद पर लगे इस से पत्रकार को बचना चाहिए ताकि वह सदैव निष्पक्ष होकर अपने कार्य के प्रति सजग रह सके। उपभोक्ता न्यायालय के सदस्य न्यायाधीश डॉ भारत भूषण ओझा ने कहा कि नागरिक पत्रकारिता आज के दौर में सबसे महत्वपूर्ण तरीके से उभरी है क्योंकि सोशल मीडिया और डिजिटल पत्रकारिता ने सूचना संप्रेषण को आसान और सरल बना दिया है। इसलिए इसके उपयोग में एहतियात और सजगता भी आवश्यक है।
वरिष्ठ पत्रकार विपिन गांधी ने कहा कि सही तथ्यों की पड़ताल और उसका सही प्रस्तुतीकरण पाठकों और दर्शकों के बीच करना चाहिए। पूर्वाग्रहों से ग्रसित पत्रकार दर्शकों और पाठकों के साथ अन्याय ही करता है। इसलिए न्यूज़ और व्यूज़ में अंतर समझना और महसूस करना सबसे महत्वपूर्ण विषय है इसका सभी भावी पत्रकारों को ख्याल रखना चाहिए।


एम ए प्रथम सेमेस्टर की विद्यार्थी संगीता राम ने प्रेस दिवस की संकल्पना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। हिमांशु सिंह, रिचा मेतावला और तरुण कुमार मीणा ने पत्रकारिता के मौजूदा परिदृश्य की चुनौतियों को रेखांकित किया।
कार्यक्रम के शुरू में विभागाध्यक्ष डॉ कुंजन आचार्य ने पहले प्रेस आयोग के कामकाज, प्रेस परिषद की संकल्पना और प्रेस दिवस के महत्व पर प्रकाश डालते हुए सकारात्मक और विकासात्मक पत्रकारिता की जरूरत को समझाया। इस अवसर पर माणक अलंकरण से सम्मानित होने पर डॉ कुंजन आचार्य का अधिष्ठाता प्रोफेसर सीआर सुथार एवं सभी विद्यार्थियों की ओर से अभिनंदन किया गया। बीए की विद्यार्थी कोमुदी महालय ने धन्यवाद दिया।

Related Posts

कथा से पहले ही संसार छोड़ दिया…

रावतभाटा. जिंदगी में सांसों का कोई भरोसा नहीं। भगवान श्रीकृष्ण की भक्त 75 वर्षीया बुजुर्ग महिला रावतभाटा से 30 से अधिक महिलाओं को लेकर वृंदावन में कथा करने के लिए…

चांदीपुरा वायरस : सीएमएचओ ने किया हाई अलर्ट क्षेत्र का दौरा

उदयपुर। जिले में चांदीपुरा वायरस से बचाव व सुरक्षा के लिए चिकित्सा विभाग सतर्क है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ शंकर एच बामनिया ने चांदीपुरा वायरस के हाई अलर्ट…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

आचार्य हितवर्धन सुरिश्वर ने कहा विनय जीवन की प्रथम सीढ़ी है

  • July 19, 2024
  • 4 views
आचार्य हितवर्धन सुरिश्वर ने कहा विनय जीवन की प्रथम सीढ़ी है

कथा से पहले ही संसार छोड़ दिया…

  • July 19, 2024
  • 4 views
कथा से पहले ही संसार छोड़ दिया…

सांवरिया सेठ मेहमान बनकर पहुंचे

  • July 19, 2024
  • 4 views
सांवरिया सेठ मेहमान बनकर पहुंचे

उदयपुर के एमबी अस्पताल के वार्डों में लगाई 35 ईसीजी मशीनें, नहीं आना पड़ेगा इमरजेंसी

  • July 18, 2024
  • 9 views
उदयपुर के एमबी अस्पताल के वार्डों में लगाई 35 ईसीजी मशीनें, नहीं आना पड़ेगा इमरजेंसी

चांदीपुरा वायरस : सीएमएचओ ने किया हाई अलर्ट क्षेत्र का दौरा

  • July 18, 2024
  • 9 views
चांदीपुरा वायरस : सीएमएचओ ने किया हाई अलर्ट क्षेत्र का दौरा

उदयपुर सांसद-रावत कतिपय लोग युवाओं को भ्रमित कर पत्थरबाज बना रहे

  • July 18, 2024
  • 9 views
उदयपुर सांसद-रावत कतिपय लोग युवाओं को भ्रमित कर पत्थरबाज बना रहे