ख्यात पत्रकार बहादुर सिंह सरूपरिया के बेटे हर्षमित्र ने नवजात को दी जिदंगी

उदयपुर। उदयपुर के ख्यात पत्रकार बहादुर सिंह सरुपरिया के एक बेटे ने जो काम किया उसकी सब जगह वाहवाही हुई। असल में बहादुर सिंह सरूपरिया वे पत्रकार थे जिनकी उस जमाने में तूती बोलती थी।
उनके एक बेटे हर्षमि​त्र सरूपरिया जिनको प्यार से सब बंटी बुलाते है उन्होंने शुक्रवार की रात को एक नवजात की जान बचाई। गहरी नींद में सोए हर्षमित्र को जब सूचना मिली तो वे नीदं से उठकर सीधे अस्पताल चले गए और ब्लड देकर भीलवाड़ा के एक नवजात की जान बचाई।
अब आपके मन में आ रहा होगा कि ऐसी इमरजेंसी में ब्लड तो कोई भी दे सकता था लेकिन बता दे कि शुक्रवार रात को भीलवाड़ा से एक तीन दिन के नवजात को गंभीर हालत में उदयपुर के निजी चिकित्सालय में रेफर किया गया। डॉक्टरों ने नवजात की जान बचाने के लिए परिजनों से तुरंत ओ निगेटिव ब्लड के लिए कहा।


पूछताछ शुरू की और सबको जगाया लेकिन सामने आया कि यह ब्लड ग्रुप बहुत कम ही मिलता है। चिंता की लकीरे परिवारजनों के उपर थी लेकिन भगवान जो है वह सब व्यवस्था कर ही देता है और ईश्वर ने ह​र्षित होकर अंदर ही अंदर हर्षमित्र तक पहुंचा दिया।
रक्तदाता युवा वाहिनी के सदस्यों से संपर्क हुआ तो पता चला कि ओ निगेटिव ब्लड तो हर्षमित्र सरूपरिया का है। सरूपरिया से जैसे ही कांटेक्ट हुआ तो उन्होंने एक झटके में बोला घर से निकल रहा हूं। रात की करीब तीन बजे वे सरल ब्लड बैंक पहुंचे और नवजात के लिए रक्तदान किया और नवजात के परिजनों ने राहत की सांस ली।
अब बहादुर सिंह सरूपरिया के बारे में भी जान लीजिए
मेवाड़ के ख्यात पत्रकारों में एक नाम था बहादुर सिंह सरुपरिया का। सरूपरिया अब नहीं रहे है लेकिन उनकी यादें और काम आज भी सबको याद है। सरुपरिया ने वर्ष 1958 में जयपुर से प्रकाशित ‘गणराज्य’ से पत्रकारिता की शुरुआत की और बाद में वे उदयपुर से राजस्थान पत्रिका से जुड़ गए थे। उन्होंने उस समय पत्रकारिता में जो काम किया वह बहुत ऐतिहासिक था।

इस खबर पर आपकी राय हमे व्हटसप करें +919462978140

Related Posts

बॉलीवुड के महान् पार्श्व गायक मुकेश की जयन्ती पर स्वरांजली का आयोजन

उदयपुर। सुरों की मंडली के संस्थापक मुकेश माधवानी ने बताया की शहर के अशोका पैलेस में रविवार को खचाखच भरे ऑडिटोरियम में बॉलीवुड के महान् पार्श्वगायक मुकेश कुमार की 101वीं…

कथा से पहले ही संसार छोड़ दिया…

रावतभाटा. जिंदगी में सांसों का कोई भरोसा नहीं। भगवान श्रीकृष्ण की भक्त 75 वर्षीया बुजुर्ग महिला रावतभाटा से 30 से अधिक महिलाओं को लेकर वृंदावन में कथा करने के लिए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

उदयपुर में दूषित पानी से एक और मौत, अब तक चार मौतें

  • July 21, 2024
  • 4 views
उदयपुर में दूषित पानी से एक और मौत, अब तक चार मौतें

RAS-मेन्स : गंगानगर में किसी ईमित्र से निकलवाया कम्प्यूटर भर्ती का एडमिट कार्ड

  • July 21, 2024
  • 1 views
RAS-मेन्स : गंगानगर में किसी ईमित्र से निकलवाया कम्प्यूटर भर्ती का एडमिट कार्ड

बॉलीवुड के महान् पार्श्व गायक मुकेश की जयन्ती पर स्वरांजली का आयोजन

  • July 21, 2024
  • 3 views
बॉलीवुड के महान् पार्श्व गायक मुकेश की जयन्ती पर स्वरांजली का आयोजन

उदयपुर में देशभर के 101 प्रतिभागियों को सम्मानित किया

  • July 21, 2024
  • 3 views
उदयपुर में देशभर के 101 प्रतिभागियों को सम्मानित किया

प्रो विजय श्रीमाली को याद किया : ‘श्रीमाली के होते किसी भी छात्र की पढ़ाई फीस के बगैर रुकी नहीं’

  • July 21, 2024
  • 8 views
प्रो विजय श्रीमाली को याद किया : ‘श्रीमाली के होते किसी भी छात्र की पढ़ाई फीस के बगैर रुकी नहीं’

उमावि भल्लों का गु़ड़ा में अपशिष्ट योद्धा बनने का किया आह्वान

  • July 20, 2024
  • 2 views
उमावि भल्लों का गु़ड़ा में अपशिष्ट योद्धा बनने का किया आह्वान