फील्ड क्लब में कृष्णावत उपाध्यक्ष तो भालमवाला ट्रेजरार बने

उदयपुर। फील्ड क्लब के चुनाव हो गए है। इसमें उपाध्यक्ष मनवीर सिंह कृष्णावत व ट्रेजरार अब्बास अली भालावाला निर्वाचित हुए। सचिव डा. अनुज शर्मा निर्विरोध निर्वाचित पहले ही हो गए थे। डा. अनुज पहले भी सचिव रहे। उपाध्यक्ष पद पर मनवीर सिंह की जीत ऐतिहासिक रही। सदस्यों में सर्वाधिक वोटों से जीतने वाले गौरव सिंघवी रोटेरियन निर्मल सिंघवी के बेटे है, वे पहली बार चुनाव मैदान में उतरे और जीत गए।

जीतने वाले पदाधिकारी

उपाध्यक्ष मनवीर सिंह कृष्णावत
सचिव डा. अनुज शर्मा
ट्रेजरार अब्बास अली भालमवाला
सदस्य गौरव सिंघवी
सदस्य जिम्मी छाबड़ा
सदस्य ललित चोरडिय़ा
सदस्य मयंक सिंह पंवार
सदस्य प्रशांत बाजपेयी
सदस्य सुरेन्द्र सिंह खनुजा
सदस्य विशाल लुथरा

Related Posts

कोर्ट मैरिज से नाराज महिला के अपहरण की फिराक में हरियाणा के पांच को पकड़ा

उदयपुर। उदयपुर शहर के प्रताप नगर थाना क्षेत्र मे किराये पर निवासरत महिला की कोर्ट मैरिज से नाराज होकर महिला के अपहरण करने की फिराक मे घूम रहे 5 व्यक्तियो…

मुख्यमंत्रीजी सूरजपोल चौराहा पर किए प्रयोगों की जांच हो, भाजपा नेता श्रीमाली का पत्र

उदयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा को भारतीय जनता पार्टी उदयपुर के नेता प्रदीप श्रीमाली ने पत्र लिखकर उदयपुर के सूरजपोल चौराहा पर किए गए प्रयोग की जांच करने की…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

लेकसिटी के अर्बन स्क्वायर मॉल परिसर में लेमन ट्री होटल

लेकसिटी के अर्बन स्क्वायर मॉल परिसर में लेमन ट्री होटल

उदयपुर-पिंडवाड़ा हाइवे पर भीषण हादसा, चार की मौत

उदयपुर-पिंडवाड़ा हाइवे पर भीषण हादसा, चार की मौत

गुम हुए 6 लाख के मोबाइल की घंटी दूसरे राज्यों में बज रही थी, पुलिस ने पकड़े

गुम हुए 6 लाख के मोबाइल की घंटी दूसरे राज्यों में बज रही थी, पुलिस ने पकड़े

कोर्ट मैरिज से नाराज महिला के अपहरण की फिराक में हरियाणा के पांच को पकड़ा

कोर्ट मैरिज से नाराज महिला के अपहरण की फिराक में हरियाणा के पांच को पकड़ा

आइए ज्ञान खजाना-पाइए संस्कार शिविर में बच्चे सीख रहे ज्ञान-ध्यान

आइए ज्ञान खजाना-पाइए संस्कार शिविर में बच्चे सीख रहे ज्ञान-ध्यान

लेकसिटी कंप्यूप्रिंट एसोसिएशन के अध्यक्ष बनें यशवन्त मण्डावरा

लेकसिटी कंप्यूप्रिंट एसोसिएशन के अध्यक्ष बनें यशवन्त मण्डावरा