कला और संस्कृति का संरक्षण में अग्रणी रहा है मेवाड़- डॉ. लक्ष्यराज सिंह

उदयपुर। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, पटियाला (पंजाब) एवं सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय, उदयपुर के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय संगोष्ठी एवं कला सृजन कार्यशाला का शुभारंभ गुरुवार सूचना केन्द्र में हुआ।


शुभारंभ समारोह के मुख्य अतिथि महाराणा प्रताप स्मारक समिति के अध्यक्ष एवं ट्रस्टी एमएमसीएफ डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने कहा कि मेवाड़ प्राचीनकाल से ही कला और संस्कृति के संरक्षण में अग्रणी रहा है और आगे भी रहेगा। आज कला और संस्कृति के संरक्षण में हुनरमंद कलाकार अद्वितीय योगदान देकर हमारी इस विरासत को जीवन्तता प्रदान कर रहे हैं। डॉ. मेवाड़ ने कहा कि कलाकारों का यह हुनर भी हमारी जीवन्त धरोहर है जिसके संरक्षण और प्रोत्साहन के लिए सभी को आगे आना होगा। इससे हुनरमंदों को रोजगार मिलेगा और भावी पीढ़ी हमारी इन अनूठी कलाआंें से रूबरू होती रहेगी। उन्होंने कहा कि कलाकारों का दायरा असीमित होता है और यहां उदयपुर में हर क्षेत्र के कलाकार है, ऐसे में उदयपुर को पर्यटन सिटी के साथ कलाकारों के शहर के नाम से जाना जाए तो मुझे अधिक प्रसन्नता होगी।


कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के निदेशक मो. फुरकान खान ने कला जगत की विभिन्न प्रतिभाओं को प्रोत्साहित किया और कहा कि कलाकार रचनाओं का सृजन करें जो आमजन के समझ में आए, मन भाए। उन्होंने डॉ. लक्ष्यराज ंिसह मेवाड़ का आभार जताते हुए कहा कि पूर्व में उनके पिताश्री अरविंद सिंह मेवाड़ ने भी उनकी कृतियों को प्रोत्साहित किया और मेवाड़ में कला को विशेष सम्मान मिलता आया है। खान ने कहा कि आज के दौर में कलाकारों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है और हम हाल ही में कोरोना के भयंकर दौर से गुजरे है लेकिन हमें इन सभी से ऊपर उठकर लगातार आगे बढ़ना होगा और कला के संरक्षण के साथ आजीविका के लिए बेहतर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि कलाकार के पास हुनर की कोई कमी नहीं है और इसी हुनर को जीवन्त रखते हुए कला को एक विशिष्ट पहचान देनी होगी।
विशिष्ट अतिथि सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा ‘मुम्किन नहीं कि हर जगह मिले खुश्क जमीं, प्यासे जो गर चल पढ़े हैं तो दरिया भी मिल जाएगा…… की पंक्तियों के साथ विभिन्न क्षेत्रों से शामिल हुए कलाकारों-साहित्यकारों को प्रोत्साहित किया और कहा कि उदयपुर में कई प्रकार के फेस्टिवल और मेलों का आयोजन होता है, ऐसे में हम सभी लक्ष्य साधकर आगे बढ़े तो आने वाले दिनों में स्मार्ट सिटी में एक आर्ट फेस्टिवल की नींव भी रखी जा सकती है, जो सभी कलाकारों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। उन्होंने कहा के हमारे बीच ऐसे कलाकार है जिनकी पेंटिंग्स देश-विदेशों में भेजी जाती है, ऐसे छायाकार है जिनके छायाचित्रों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नवाजा गया है। इन कलाकारों को एक मंच पर लाने के लिए यह कार्यशाला एक पहल है।
प्रारंभ में कार्यक्रम संयोजक व शिल्पकार हेमंत जोशी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए इस कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का प्रभावी संचालन चेतन औदीच्य ने किया जबकि आभार भावना व्यास ने जताया।
कला चर्चा में उभरे विविध विषय:
कार्यशाला में जिले के चित्रकार डॉ. चित्रसेन, चेतन औदीच्य व प्रेषिका द्विवेदी, शिल्पकार हेमंत जोशी व डॉ.निर्मल यादव, छायाकार ताराचंद गवारिया, विधान द्विवेदी व युवराज मालवीया, ब्लॉगर व सोशल मीडिया एक्सपर्ट मनीष कोठारी, विपुल वैष्णव, अभय भाटी व सुनील व्यास, रेडियो आर्टिस्ट भावना व्यास, कपिल पालीवाल व माधुरी शर्मा, संगीत कलाकार भूमिका द्विवेदी व नरेन्द्र बियावत, थियेटर आर्टिस्ट दीपक दीक्षित व शिवराज सोनवाल, सूरज सोनी रचित दशोरा आदि ने कलाओं के अंतःसंबंध और आधुनिकता के इस दौर में कलाओं के विस्तार और विकास पर विचार रखे और सुझाव दिए।

मेवाड़ ने किया फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ
आजादी के अमृत महोत्सव के तहत उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, पटियाला (पंजाब) एवं सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय, उदयपुर के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय संगोष्ठी एवं कला सृजन कार्यशाला के साथ सूचना केन्द्र की कला दीर्घा में फोटो प्रदर्शनी भी लगाई गई। इस प्रदर्शनी में जनसंपर्क उपनिदेशक व वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर डॉ. कमलेश शर्मा द्वारा नैसर्गिक संपदा विषयक क्लिक किए गए फोटो को प्रदर्शित किया गया है।
प्रदर्शनी का शुभारंभ मुख्य अतिथि महाराणा प्रताप स्मारक समिति के अध्यक्ष एवं ट्रस्टी एमएमसीएफ डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ व उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के निदेशक मो. फुरकान खान ने मौली खोलकर किया। प्रदर्शनी का अवलोकन करते हुए डॉ. मेवाड़ ने कहा कि परिंदे प्रकृति की संुदर नेमत हैं और मेवाड़ को प्रकृति ने इस दृष्टि से बड़ा समृद्ध किया है। उन्होंने इनके संरक्षण-संवर्धन की दिशा में प्रयास किए जाने की जरूरत है।
इस अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा ने प्रदर्शनी में लगाए गए पशु पक्षियों, वन्यजीवों व नैसर्गिक सौंदर्य को बखानते चित्रों के बारे में अतिथियों को जानकारी प्रदान की। आज दिनभर इस प्रदर्शनी को बड़ी संख्या में कलासाधकों और विद्यार्थियों ने देखा और इसके वर्ण्य विषय की सराहना की।
वाचनालय के विद्यार्थियों से किया संवाद
प्रारंभ में सूचना केन्द्र पहुंचने पर मुख्य अतिथि डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ व मो. फुरखान खान ने सूचना केन्द्र वाचनालय मंें अध्यनरत प्रतिभाशाली विद्यार्थियों से संवाद किया और उन्हें प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के लिए शुभकामनाएं दी। मेवाड़ ने कहा कि सफलता को कोई शोर्टकट नहीं है, ऐसे में वे लक्ष्य साधते हुए निश्चित दिशा में परिश्रम कर सफलता प्राप्त करें। इस अवसर पर मो. फुरखान खान ने भी विद्यार्थियों को प्रोत्साहित किया।

हमारे ट्वीटर से जुड़ जाए आप भी…

https://bit.ly/3jw9fKN

Related Posts

यूसीसीआई उदयपुर की बैठक, उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज जरूरत

उदयपुर। “वर्ष 2047 तक उदयपुर सम्भाग में युवा वर्ग को रोजगार मुहैया करवाना सबसे बडी चुनौती होगी। इसके लिए उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज की स्थापना को बढावा देना होगा।यह…

होम वोटिंग की राजस्थान की ये तस्वीरें जरूर देखे… सलाम

उदयपुर। लोकसभा आम चुनाव- 2024 में जन-जन की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग कृतसंकल्पित है। 85 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक तथा 40 प्रतिशत से…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

घूंघट की ओट से बाहर निकल ग्रामीण महिलायें कर रही अपना व्यवसाय

घूंघट की ओट से बाहर निकल ग्रामीण महिलायें कर रही अपना व्यवसाय

यूसीसीआई उदयपुर की बैठक, उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज जरूरत

यूसीसीआई उदयपुर की बैठक, उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज जरूरत

मुख्यमंत्रीजी सूरजपोल चौराहा पर किए प्रयोगों की जांच हो, भाजपा नेता श्रीमाली का पत्र

मुख्यमंत्रीजी सूरजपोल चौराहा पर किए प्रयोगों की जांच हो, भाजपा नेता श्रीमाली का पत्र

साउथ अफ्रीका में राजस्थान का ये युवा 8.50 घंटे में दौड़ा 86 किमी

साउथ अफ्रीका में राजस्थान का ये युवा 8.50 घंटे में दौड़ा 86 किमी

संजय सिंघल बोले – भारत में पहली बार संस्कृत में कैंपस इंटरव्यू किए

संजय सिंघल बोले – भारत में पहली बार संस्कृत में कैंपस इंटरव्यू किए

मोदी सरकार में मंत्रियों को बांटे विभाग, देखे पूरी सूची किसको कौनसा विभाग दिया

मोदी सरकार में मंत्रियों को बांटे विभाग, देखे पूरी सूची किसको कौनसा विभाग दिया