उदयपुर में बुलेट ट्रेन की तैयारी, अफसरों ने दिया प्रंजेटेशन

उदयपुर। स्मार्ट सिटी उदयपुर को बहुत ही जल्द दिल्ली से अहमदाबाद के बीच 350 किलोमीटर प्रति घंटा रफ्तार से चलने वाली बुलेट ट्रेन की सौगात मिलने वाली है। गुरुवार को नेशनल हाई स्पीड रेल कॉपार्रेशन लिमिटेड के अधिकारियों ने जिला कलक्टर चेतन देवड़ा के समक्ष इस प्रोजेक्ट को लेकर प्रजेंटेशन दिया और इस महत्त्वकांक्षी प्रोजेक्ट पर विस्तार से चर्चा की।
प्रजेंटेशन दौरान कलक्टर देवड़ा ने अधिकारियों से हर विषय की जानकारी लेकर चर्चा की व कहा कि इस महत्त्वकांक्षी प्रोजेक्ट के सफल क्रियान्वयन के लिए सर्वे और अन्य कार्यों में जिला प्रशासन द्वारा पूरा-पूरा सहयोग दिया जाएगा।

उदयपुर जिले में 127 किलोमीटर का होगा ट्रेक
नेशनल हाई स्पीड रेल कॉपार्रेशन लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक अनुप अग्रवाल व सर्वे मैनेजर राजीव दत्त के नेतृत्व में अधिकारियों ने बुलेट ट्रेन की कुल 7 डीपीआर में से दिल्ली-अहमदाबाद हाई स्पीड ट्रेन की डीपीआर तैयार करने संबंधित बिंदुओं पर पावर प्वाईंट प्रजेंटेशन के माध्यम से जानकारी दी। इसमें बताया गया कि इस प्रोजेक्ट के कुल 875 किलोमीटर लंबे ट्रेक का 75 प्रतिशत हिस्सा अर्थात 657 किलोमीटर टेªक राजस्थान में होगा। यह ट्रेक राजस्थान के 7 जिलों अलवर, जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और डूंगरपुर जिले से गुजरेगा। इसमें उदयपुर जिले का ट्रेक कुल 127 किलोमीटर का रहेगा।

राज्य में 9 स्टेशन, उदयपुर व डूंगरपुर में 1-1

प्रजेंटेंशन दौरान राईट्स के डीजीएम पी.के.राव ने बताया कि राजस्थान में कुल 9 स्टेशन बनाएं जाने प्रस्तावित हैं जिसमें बहरोड़, शाहजहांपुर, जयपुर, अजमेर, विजयनगर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और डूंगरपुर में स्टेशन बनेंगे। इस ट्रेन से दिल्ली से अहमदाबाद का सफर 3 घंटे में तय हो सकेगा।

संपूर्ण ट्रेक एलीवेटेड बनेगा, 8 टनल बनेंगी

कॉर्पोरेशन के अधिकारियों ने बताया कि ट्रेन के संचालन में सुरक्षा संबंधित तकनीकी कारणों से संपूर्ण ट्रेक हवा में अर्थात पिल्लर्स पर एलीवेटेड बनाया जाएगा और उदयपुर जिले में 1 किलोमीटर से कम दूरी की 8 टनल भी बनाई जाएंगीं, जो जमीन पर होंगी। इस मायने में जमीन अधिग्रहण का मामला कम से कम रहेगा। इसी प्रकार यह ट्रेक 5 नदियों के ऊपर से भी गुजरेगा।

हेलीकॉप्टर से होगा सर्वे, जल्द बनेगी डीपीआर
अधिकारियों ने बताया कि इस परियोजना को मूर्त रूप देने के लिए हेलीकॉप्टर से संपूर्ण ट्रेक का सर्वे किया जाएगा और इस सर्वे के आधार पर विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की जाएगी। डीपीआर की स्वीकृति उपरांत प्रोजेक्ट का धरातल पर क्रियान्यवन किया जाएगा।
प्रजेंटेशन के दौरान नेशनल हाई स्पीड रेल कॉपार्रेशन लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक अनुप अग्रवाल, कॉर्पोरेशन के सर्वे मैनेजर राजीव दत्त, राईट्स के डीजीएम पी.के.राव, स्मार्ट सिटी सीईओ नीलाभ सक्सेना, एडीएम ओपी बुनकर व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Related Posts

भाग्य दोषी नहीं, कर्मों का भुगतानः डा. प्रशांत अग्रवाल

उदयपुर। नारायण सेवा संस्थान के लियों का गुड़ा परिसर में त्रिदिवसीय  ‘अपनों से अपनी बात’  कार्यक्रम के समापन पर संस्थान अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा कि लोग प्रायः भाग्य को दोष…

अब फ्रेंच भाषा उदयपुर में ही सीख सकेंगे, फ्रांस के राजदूत डॉ. माथू और डॉ. लक्ष्यराज सिंह ने की शुरूआत

उदयपुर. उदयपुर संभाग बच्चे, किशोर, वयस्क और पेशेवर कामगार लोग अब फ्रेंच भाषा उदयपुर में ही सीख सकेंगे। इसकी विधिवत शुरूआत शुक्रवार को सिटी पैलेस स्थित महाराणा मेवाड़ पब्लिक स्कूल…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

घूंघट की ओट से बाहर निकल ग्रामीण महिलायें कर रही अपना व्यवसाय

घूंघट की ओट से बाहर निकल ग्रामीण महिलायें कर रही अपना व्यवसाय

यूसीसीआई उदयपुर की बैठक, उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज जरूरत

यूसीसीआई उदयपुर की बैठक, उदयपुर सम्भाग में मैन्युफैक्चरिंग इण्डस्ट्रीज जरूरत

मुख्यमंत्रीजी सूरजपोल चौराहा पर किए प्रयोगों की जांच हो, भाजपा नेता श्रीमाली का पत्र

मुख्यमंत्रीजी सूरजपोल चौराहा पर किए प्रयोगों की जांच हो, भाजपा नेता श्रीमाली का पत्र

साउथ अफ्रीका में राजस्थान का ये युवा 8.50 घंटे में दौड़ा 86 किमी

साउथ अफ्रीका में राजस्थान का ये युवा 8.50 घंटे में दौड़ा 86 किमी

संजय सिंघल बोले – भारत में पहली बार संस्कृत में कैंपस इंटरव्यू किए

संजय सिंघल बोले – भारत में पहली बार संस्कृत में कैंपस इंटरव्यू किए

मोदी सरकार में मंत्रियों को बांटे विभाग, देखे पूरी सूची किसको कौनसा विभाग दिया

मोदी सरकार में मंत्रियों को बांटे विभाग, देखे पूरी सूची किसको कौनसा विभाग दिया