सुखाड़िया युनिवरर्सिटी की ये तस्वीर देख बहुत याद आते प्रो.विजय श्रीमाली

आज प्रो.श्रीमाली की पुण्यतिथि पर विशेष

उदयपुर। मोहनलाल सुखाड़िया वि​श्वविद्यालय सियासत का अडडा बन गया है। पढ़ाई से ज्यादा राजनीतिक सुर्खियां उदयपुर ही नहीं पूरे प्रदेश तक है। कुलपति के विवाद के बाद तो साख पर बटटा लगा है। इसी का नतीजा है कि विवि के हाथों से साइंस कांग्रेस की मेजबानी छीन ली। आज इन सब के बीच याद आते है प्रो.विजय श्रीमाली Prof vijay shrimali। ये नाम सुनकर सबको कॉमर्स कॉलेज से लेकर विवि के तेवर याद आ जाते है। श्रीमाली का काम और नाम पूरे विवि से लेकर शिक्षा जगत में एक अलग ही अमिट छोड़ गया। उनका दबदबा था कि वे इशारे मात्र से कितना ही बड़ा विवाद हो सुलटा देते। सबसे खास बात तो यह है कि उनका मकसद था कि शिक्षा के मंदिर में शिक्षा पर ही बात हो और काम हो। इसमें कोई आडे आता तो वे बर्दाश्त नहीं करते थे। सुखाड़िया विवि के कई प्रोफेसर एवं विद्यार्थी जब भी मौका आता तो यह दुहाई आज भी देते कि प्रो श्रीमाली जैसे लोग आज विवि में होते तो ये दिन नहीं देखने पड़ते। सच भी है कि उस समय में कॉमर्स कॉलेज में प्रो श्रीमाली, सेवानिवृत प्रो दरियाव सिंह चुंडावत सहित अन्य कई नाम है जो जाने जाते। चुंडावत अभी भी शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे है।

profeser-vijay-shrimali-udaipur


आज प्रो श्रीमाली की पुण्यतिथि पर उदयपुर उनको याद कर रहा है लेकिन विवि से जुड़े सरस्वती पुत्रों के मन में यह जरूर खलता है कि मोहनलाल सुखाड़िया की बनाई इस विवि में ये कैसा माहौल हो गया है। प्रो श्रीमाली जैसे कई प्रोफेसरों ने जो संघर्ष किया वह इस तरह बेकार क्यों जा रहा है। अब भी कुछ नहीं बिगड़ा है विवि में सुधार के लिए काम किया जा सकता है। उस दौर में प्रो आईवी त्रिवेदी भी एक नाम था और आज उनको विश्वविद्यालय में वीसी का कार्यभार दे रखा है। प्रो त्रिवेदी को खराब हुए सिस्टम को ठीक करने का काम तेजी से करना चाहिए, वे भी इस विवि के हीरे है और उनका भी दिल तो बहुत दुखा इस सारे तमाशे से पर वक्त को बदलना भी उन्हें अच्छे से आता है। बदलाव की बयार आज से ही सही….. आपकी प्रतिक्रियाएं भी नीचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है

श्रीमाली की याद में आज कई कार्यक्रम लेकसिटी में
दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर के पूर्व कुलपति प्रो. विजय श्रीमाली की चतुर्थ पुण्यतिथि पर गुरुवार को उदयपुर में कई आयोजन होंगे। प्रो विजय श्रीमाली फाउंडेशन, उदयपुर के संस्थापक जतिन श्रीमाली के अनुसार प्रताप गौरव केन्द्र के पास संस्कार भवन में पुष्पांजलि एवं वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। तत्पश्चात निराश्रित बच्चो के लिए स्टेशनरी वितरण कार्यक्रम होगा। शाम को प्रो श्रीमाली की पुन्यस्मृति में दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर महाकालेश्वर, रानी रोड पर 108 दिप जलाकर हनुमान जी की आरती की जाएगी। जतिन श्रीमाली ने बताया कि प्रो. विजय श्रीमाली के जीवन का उदेश्य ही लोगो की मदद कर समाज में बदलाव लाना था। इन उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।

Related Posts

होम वोटिंग की राजस्थान की ये तस्वीरें जरूर देखे… सलाम

उदयपुर। लोकसभा आम चुनाव- 2024 में जन-जन की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग कृतसंकल्पित है। 85 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक तथा 40 प्रतिशत से…

राजस्थानी संस्कृति से सराबोर हुए विदेशी मेहमान

उदयपुर। झीलों की नगरी उदयपुर में पर्यटन विभाग एवं जिला प्रशासन के साझे में आयोजित तीन दिवसीय महोत्सव mewar festival के दूसरे दिन गणगौर घाट पर सांस्कृतिक संध्या व विदेशी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

कहीं आंगन में तो कहीं पेड़ की छांव में लगा मतदान बूथ

कहीं आंगन में तो कहीं पेड़ की छांव में लगा मतदान बूथ

देखे तस्वीरों में : भ. महावीर के जन्म कल्याणक महोत्सव पर 1008 दीपों की महाआरती

देखे तस्वीरों में : भ. महावीर के जन्म कल्याणक महोत्सव पर 1008 दीपों की महाआरती

यूपी के मेरठ का परिवार कार में जिंदा जला, राजस्थान में हादसा

यूपी के मेरठ का परिवार कार में जिंदा जला, राजस्थान में हादसा

होम वोटिंग की राजस्थान की ये तस्वीरें जरूर देखे… सलाम

होम वोटिंग की राजस्थान की ये तस्वीरें जरूर देखे… सलाम

भास्कर के सीनियर फोटो जर्नलिस्ट गवारिया सहित 30 प्रतिभाओं का हुआ सम्मान

भास्कर के सीनियर फोटो जर्नलिस्ट गवारिया सहित 30 प्रतिभाओं का हुआ सम्मान

कार्यकर्ताओं के शिल्पी, स्व सुंदर सिंह भंडारी को की जयंती मनाई

कार्यकर्ताओं के शिल्पी, स्व सुंदर सिंह भंडारी को की जयंती मनाई